गोटूल: माडिया-कोईतुर समाज और जीवन दर्शन को समझने का एक बहुआयामी केंद्र

फ़ोटो : बस्तर में स्थित एक गोटूल (वेर्रिएर एल्विन, 1940) गडचिरोली और माडिया (कोईतुर) आदिवासी पहचान बताते हुए शहरी लोगों

Read more

सुन्हेरसिंह ताराम ने तीन दशक पुरानी पत्रिका “गोंडवाना दर्शन” से बदला कोइतुर-आदिवासी विमर्श

सन 1916, कोईतूर सामाजिक आंदोलन के इतिहास में एक महत्वपूर्ण दौर की शुरुवात थी, जिसमें कोईतूर समाज के बुद्धिजीवियों द्वारा

Read more

बच्छराज कुंवर: छत्तीसगढ़ में आदिवासी देवता के ब्राह्मणीकरण का समाज कर रहा विरोध

छत्‍तीसगढ़ के घने जंगल प्राचीन दुनिया से जुड़े कई गहरे इतिहास संजोये हुए हैं। ऐसा ही एक इतिहास है उत्तर

Read more

क्या है, गोंडवाना साम्राज्य के देवगढ़ किले का गौरवशाली इतिहास?

मध्य भारत में गोंडवाना साम्राज्य के वैभव और समृद्धि से जुड़े इतिहास आज भी अपनी गौरवशाली विरासत को बयान कर

Read more

गोंडवाना साम्राज्य की महान वीरांगना रानी दुर्गावती मडावी

रानी दुर्गावती मड़ावी का आज बलिदान दिवस है आइये उन्हे सभी लोग मिलकर हार्दिक श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं और यह

Read more

भारतीय मूल का प्राकृतिक नववर्ष “पूनल सावरी”: डॉ सूर्या बाली “सूरज धुर्वे”

आइए आज आपको प्राकृतिक नववर्ष की बधाई देते हुए इसके इतिहास और वर्तमान स्वरूप की जानकारी भी दे दें। भारत

Read more

गोंडवाना रत्न सुन्हेरसिंह ताराम : गोंडी भाषा और साहित्य का दीपक जलाने वाले कर्मनिष्ठ समाज-सेवक

गोंडवाना दर्शन मासिक पत्रिका के संस्थापक संपादक रहे सुन्हेरसिंह ताराम का निधन बीते 7 नवंबर 2018 को हो गया। गोंडी

Read more