मानव पूँजी से हो सकता है एक बेहतर भविष्य का निर्माण

पूंजी को विभिन्न प्रकार से सोचा जा सकता है, जैसे – भौतिक पूँजी, वित्तीय पूँजी, सामाजिक पूँजी, प्राकृतिक पूँजी, मानव पूंजी इत्यादि| भौतिक

Read more

“धुमकुड़िया—एक आदिवासी संवाद श्रृंखला” अपने दूसरे सम्मेलन के लिए शोध पत्र आमंत्रित करती है

– धुमकुडिया टीम धुमकुड़िया, उराँव जनजाति के बीच एक पारम्परिक शैक्षणिक संस्थान है। आदिवासी के उद्भव से लेकर आज तक आदिवासी

Read more

गोंडवाना साम्राज्य की महान वीरांगना रानी दुर्गावती मडावी

रानी दुर्गावती मड़ावी का आज बलिदान दिवस है आइये उन्हे सभी लोग मिलकर हार्दिक श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं और यह

Read more

भारतीय मूल का प्राकृतिक नववर्ष “पूनल सावरी”: डॉ सूर्या बाली “सूरज धुर्वे”

आइए आज आपको प्राकृतिक नववर्ष की बधाई देते हुए इसके इतिहास और वर्तमान स्वरूप की जानकारी भी दे दें। भारत

Read more