ताकतें

Share

Jacinta Kerketta

Jacinta is a freelancer journalist, poet from Ranchi, Jharkhand. She belongs to Oraon community. Her poem collection titled 'Angoor' was published this year by Adivaani.

ताकतें

पहले पृथ्वी को बेहतर बनाती चीजों को

पूरी ताकत से तोड़ा जाएगा
फिर उन्हीं की
मरम्मत के नाम पर
पूरा का पूरा युग ले लिया जाएगा,
संरक्षण के नाम पर
खड़ी की जाएंगी फौजों की दीवारें
और जो खत्म हो चुकी हैं
उन बेहतर चीजों के बुने जाएंगे सपने,
खड़ा होगा एक बाजार
और हाथों की सफाई से बने
उन सपनों को बेचने में
झोंक देगा अपनी पूरी ताकत।

क्या ताकतें इसी तरह
नहीं रहती जिंदा हर काल में?


Picture Courtesy: Jacinta Kerketta


Share

Jacinta Kerketta

Jacinta is a freelancer journalist, poet from Ranchi, Jharkhand. She belongs to Oraon community. Her poem collection titled 'Angoor' was published this year by Adivaani.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *